कितने मजबूर है हम तकदीर के हाथों।। न तुम्हे पाने की औकात रखते है न पाने का हौसला। ,

    કોઈ નવલકથાઓ ઉપલબ્ધ નથી

    કોઈ નવલકથાઓ ઉપલબ્ધ નથી