हमारे उपर जो दुःख आते हे,वे हमारे ही पसंद किये होते हे,वे हमारे कर्मों के फल हे,वे हमारे स्वभाव के अंग हे।

    • 264
    • 615
    • (11)
    • 514
    • (16)
    • 632
    • 522
    • (18)
    • 572
    • (17)
    • 600
    • (12)
    • 620
    • (16)
    • 620
    • 456