समझता ही नहीं वो मेरे अलफ़ाज़ की गहराई मैंने हर लफ्ज़ कह दिया जिसे मोहब्बत कहते है.....

    કોઈ પુસ્તકો ઉપલબ્ધ નથી

    કોઈ પુસ્તકો ઉપલબ્ધ નથી