હું ઉપેન ઝાલા દર્દ ને શબ્દ નું રુપ આપુ છું.

महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर आपको और आपके परीवार को हार्दिक शुभकामनाएं।

महादेव से भारत और आपके परीवार निरंतर खुशहाली की प्रार्थना करता हूँ।

|| शुभ प्रभात || हर हर महादेव ||

વધુ વાંચો

तुम्हारी और मेरी रातमे बस फर्क इतना है
तुम्हारी सो के गुज़री है,हमारी रो के गुज़री है.

तुम भी छोड़कर चले गए हमें,
अब तम्मना न रही किसी से दिल लगाने की !!

हर नया दिन एक नई ताकत
और नए विचार के साथ आता है।
|| शुभ परीवार || जय गुरुदेव ||

मैंने दबी आवाज़ में पूछा-“मुहब्बत करने लगी हो?”
नज़रें झुका कर वो बोली- “बहुत”

जिनमें अहम कम होता है
उनकी अहमियत ज्यादा होती है।
|| शुभ प्रभात || जय माताजी ||

काश कभी ऐसा भी हुआ होता,
मेरी कमी ने तुझे उदास किया होता !!

મારા શબ્દો માં કાઈ ખામી હશે
નક્કર એ વાહ વાહ કરે નહીં એવું બને નહીં.
ઉપેન

आप तब तक नहीं हार सकते
जब तक आप प्रयास करना नहीं छोड़ देते।
|| मंगल प्रभात || जय हिन्द ||

चाबी से खुला ताला बार बार काम मे आता है, और हथोड़े से खुलने पर दोबारा काम का नही रहता,
इसी तरह सम्बंधो के ताले को क्रोध के हथोड़े से नही बल्कि प्रेम की चाबी से खोले ।
|| शुभ प्रभात || जय महादेव ||

વધુ વાંચો