भावों की ये, अभिव्यक्ति शब्दों के आधार है मेरी कलम ही, मेरे अस्तित्व की पहचान है.

पापा आपके होने से,
मेरा अस्तित्व बना हैं,
तेरे कंधो पर ही तो,
मेरा बचपन पला है,
मेरे हर दर्द की तुझकॊ,
हर पल परवाह हैं,
तेरे दिखाए रस्तों पर ही,
जीवन सफल बना हैं,
धन्य हो गया हूँ मैं भी ,
क्युकी मेरे सर पर तेरी पनहा है

Uma vaishnav

વધુ વાંચો

हरि नाम से प्रीत
**************


प्रेम - प्रीत का पीकर प्याला,
विष को भी अमृत कर डाला

चंचल चितवन में चाहत से ,
हरि को वश में कर डाला।

इश्क़ हरि नाम से कर के,
जप ली हरि नाम की माला।

हरि नाम से करी आशिकी,
स्नेह मिला हरि का निराला।

अब कोई ख्वाहिश नहीं बाकी,
हरि चरणों में मन जो लगा।

उमा वैष्णव
मौलिक और स्वरचित

વધુ વાંચો

✈️विमान ✈️
***********


कोरे कागज से मैंने जब ,
सुंदर विमान बनाया था
भावना के ईंधन से जब
आसमान में उड़ाया था।

पवन के संग संग वो उड़ा,
पर्वत से बच कर निकाला,
उम्मीदों के दम पर जब उड़ा,
विपदाओं से बच कर निकला।

दरिया - सागर आये कई,
उड़ान उसकी पर रुकी नही,
उमंगें मन में भरी हैं जब कई,
उसको फिर रोक पाये कोई नहीं।

बादल धुंध के जब छाये थे,
हम थोड़ा घबराये गये थे ,
चीर के बादल को वो आगे बढ़ा,
देख मेरा हौसला और बढ़ा।


हमने भी मन में ये ठानी है,
विपदाये तो आनी जानी है,
हम अब कभी भी रुकेगें नहीं,
हौसला कभी भी कम होगा नहीं।

उमा वैष्णव
मौलिक और स्वरचित

વધુ વાંચો

#Naughty

कुछ तो #शरारत तेरी आँखों ने भी की होगी,
वरना यूँही कोई ❤️दिल नहीं लगा बैठता।

बदलाव प्रकृति का नियम है, इसलिये हमने थोड़ा खुद को भी बदल दिया।
Uma vaishnav

जिन्दगी हर रोज,
एक नया सबक सीखती है,
बस हमें सीखने की चाह होनी चाहिए।

#Learn

#चेहरा

चेहरा होता है,
व्यक्ति की पहचान,
ये आईना है दिल का,
धड़कन की पहचान,

Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित
#Face

#क्षणिका
*******

जन्म - मरण,
मिलन - जुदाई,
धन - दौलत,
अपने - पराये,
और ये रिश्ते - नाते,
इससे तुम प्रीत मत करना
ये सब तो हैं बस.. मोह बंधन


Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

વધુ વાંચો

#मोह


मन मोहन
मोह के वश बांधे,
प्रेम की डोर,
🌼🌼🌼🌼
मोह ना छूटे,
हरि तेरे नाम से,
नाता अटूट।
🌺 🌺 🌺 🌺
ये नाते - रिश्ते,
सब मोह के द्वार,
जीवन भार।



Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

વધુ વાંચો