Hey, I am reading on Matrubharti!

कभी जो हमें देखकर हँस लिया करते थे, आज वो हमे अन देखा करना सीख गए।
उन के होठों की हँसी थे हम, आज उस हँसी को भूल हमसे दूर रहना सिख गए।
वो समझते है के हमसे नजरे चुराके वो हर दर्द छुपा लेंगे,
वो समझते है के हमसे नजरे चुराके वो हर दर्द छुपा लेंगे,
पर वो क्या जाने,उन के चेहरे की मुस्कान के पीछे का दर्द पढ़ना हम भी सिख गए।।।।

વધુ વાંચો

उनका भी एक अलग अंदाज है,
जिनके लिए ये दिल बेताब है।।।
वो रोज हमारी यादो में रहते है,
जिनके लिए हम हर दर्द सेहते है।।।
कभी न छोड़ेंगे उनका साथ, जिनसे प्यार हम करते है।
यही वादा इस दिल से, हम हर रोज करते है।।
छोड़ने वाले चले जाते है,छोड़ के अपनो का साथ।।
हम तुमसे न दूर जाएंगे,सदा ही थामे रखेंगे तुम्हारा हाथ।।
ज़िंदगी की हर कठनाई में संग तेरे रहना है।
मिले अगर कोई ओर जन्म तो हर जन्म तुजसे ही फिर से मिलना है।।

વધુ વાંચો

वो जो अपने थे, उन्हें बेगाने बनते हमने देखा है।
जिनकी सूरत देख के सुबह होती थी, उन्हें अजनबी बनाते हमने देखा है।।
क्या खूब कहा हे किसीने,
ऐक तरफा महोब्बत ही होती हे सच्ची चाहत,
पर इसी चाहत में हज़ारों दिल टूटते हमने देखा हैं।।।।

વધુ વાંચો

महोब्बत की राह में चल दिये हैं बिना सोचे इनका अंजाम।।।।
ये दर्द की नगरी है यारों,
यहाँ सुबह सुरू होती आँस से और आंसू पे ख़तम हर साम।।।।

વધુ વાંચો

वो कहेते थे हम तुमसे दूर चले जायेगे फीर लोट कर न आयेगे...वो कहेते थे हम तुमसे दूर चले जायेगे फीर लोट कर न आयेगे...
हम ने भी केह दीया,तुम पास ही कब थे जो दूर जाओगे..ये रिश्ता तो था एक तरफा हम नीभाते गये,तुम आजमाते गये...

વધુ વાંચો