lover by nature, writer by mind, singer by heart, indian by soul. जै श्री राम

'जिंदगी' में चाहे जितने भी अच्छे काम कर लो,
'लेकिन' याद "तभी" आओगे जब दोबारा "जरूरत" होगी।

Thanks matrubharti.

I am the winner 🥇

तेरे शहर में न जाने कैसी खलिश थी इस बार।
न उसने मुझे रुकने दिया।
न उसने मुझे जाने दिया।।
रो नहीं पाया इस बार मैं जी भर उसके हाल पर
जब चला तो इस बार आसमां ही रो दिया।
सिसक पड़ा मैं आसमां के इस हाल पे।
अरसे बाद उसने मुझे अपना कह के भुला दिया।।

વધુ વાંચો

तिनका हूँ तो क्या हुआ,
वजूद है मेरा भी,
उड़ उड़ कर हवा का
रुख तो बताता हूँ

आखिर कार देश से कुछ कचरा साफ हुआ

Sarvesh Saxena लिखित कहानी "फिर मिलेंगे... कहानी - एक महामारी से लॉक डाउन तक - 10" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19888628/fir-milenge-kahaani-10

વધુ વાંચો

बीती रात ना जाने कैसी बारिश हुई,
ना खिड़कियों से पानी की बूंदे टपकी,
ना ही घर का आँगन गीला हुआ,
पर मेरे बिस्तर पे रखा तकिया,
अब तक गीला है....

#गीला

વધુ વાંચો

कभी कभी हाथ छुड़ाने की जरूरत नहीं होती, लोग साथ रहकर भी बिछड़ जाते हैं...

Sarvesh Saxena लिखित कहानी "मुझे भी साथ ले चलो" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19867391/mujhe-bhi-saath-le-chalo