नमस्कार! मात्र आप से जुड़ने  हेतु यह मेरा प्रयास है। मूलतः एक इंजीनियर के रूप में अनेक पुस्तक लेखन, लेख, अनुवाद, रेेडियो वार्ता का अवसर मिला। आजकल तकनीकी शिक्षा, उद्यमिता एवम् व्यक्तित्व विकास आदि में सलाहकार होने के साथ आम बोलचाल की भाषा में कुछ कहानियां बुन ही लेता हूं, जो मातृभारती के माध्यम से आप तक पहुंचती हैं । जनवरी 2020 में मुझे मातृभारती रीडर्स चॉइस अवार्ड मिला ।  आशा है आपका प्यार सतत मिलेगा क्योंकि छोड़ने के सैकड़ों कारण होने के बावजूद भी आप न छोड़ने का एक कारण तो ढूंढ ही लेंगे।

आपके बच्चे जब अपने को एडल्ट्स मानने लगे तो आप बच्चे बन जाइए क्योंकि तलवार की तरह दो एडल्ट भी एक म्यान में साथ नहीं रह सकते।
आर के लाल

વધુ વાંચો

आप अकेले बोल तो सकते हैं लेकिन बातचीत नहीं कर सकते । प्रकृति के साथ यह संभव हैं।

प्रकृति के साथ जीवन जीने वाला सदैव हरा भरा रहता है। आरके लाल

कर्तव्य पालन मानव जीवन की सर्वोपरि संपदा है इसे किसी मूल्य पर भी गवाया नहीं जाना चाहिए।
आर के लाल

r k lal लिखित कहानी "साइबर क्राइम - 4" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19887815/cyber-crime-4

"आपके सकारात्मक विचार आपका व्हाइट मनी है, 
इन विचारों को बिना भय एवम् कंजूसी के उपयोग  करें"।
आर0 के0 लाल

"मात्र स्मरण कर लेना अथवा समझ लेना शिक्षा नहीं है। शिक्षा तभी लाभकारी होती है जब उसे अपने व्यावहारिक जीवन में स्थाई रूप से उतारा जाए "। 

आर के लाल

વધુ વાંચો

सहजता ही
व्यक्तित्व को निखारती है इसलिए सहज बने।
आर 0 के0 लाल