मैं एक लेखक हूँ, मैं अपने अनुभव के आधार पर लिखा करता हूँ और ये बहुत ही दिलचस्प रहता है कि मैं खुद को लिख पता हूँ प्रेरणादायक लेख लिखना भी मुझे बहुत अच्छा लगता है

टूटा हौसला और उन्होंने आकर कहा,
थोड़ा सब्र कर मुक़ाम मिल जाएगा।
बस बढ़ते रहो डटकर,
जो चाहा वो मिल जाएगा।

तलाश जिसे भी सुकून की,
उसे कभी सुकून ना मिला।
जिसने तलाशा ही नही सुकून,
उससे सुकून कभी दूर ना हुआ।।
©️राजेश कुमार

વધુ વાંચો

लाख कोशिशें,
खुश रखूं सभी को।

मगर अफ़सोस,
खुद का हक मारकर भी,
मैं ये कर ना सका,

बड़ी शिकायत है साहब,
रिश्तों में भी आजकल।
लोग रिश्तों को कम,
फ़ायदे को तवज्जो देते हैं।

फिर भी कोशिश मेरी,
कोई खफ़ा न हो,
जिंदगी के सफ़र से,
बेवज़ह कोई जुदा न हो।

इस लिए जुस्तजू मुस्कुराने की,
हर रिश्ते में गुल खिलाने की।

हाँ आख़िरी पड़ाव पर,
मुझे मुझसे कोई शिकायत न हो।।

©️राजेश कुमार

વધુ વાંચો

तलाश एक सख्स की,
बैचेन बना रही है।
नही है कोई हिस्सा मेरे सफर का,
यही बात मुझे सूना बना रही है।
©️राजेश कुमार

વધુ વાંચો

नई सुबह है,नई उमंगे,
माँ जगदम्बा तेरी कृपा से।
कभी किसी का दिल न दुखे
मेरे अपने कर्मों से,
हर पल उल्लास भरे अब,
हर दिन भर जाए खुशियों से।

#Navratri

વધુ વાંચો

हसरतें हंसने की जिंदा हर क़दम,
ये सिलसिला,जिंदगी चले जहां तक।
©️राजेश कुमार

तपिश इश्क़ की बड़ी बेरहम हुई,
जलाकर सारा सकूँन खाक हुई।।

सितमगर जमाना नही,
उनकी अदाएं हुई।
पहली ही नजर में,
जिनसे हमें महोब्बत हुई।

-Rajesh Kumar

चाहते भी क्या गज़ब होती हैं,
कोशिश बेहिसाब, मगर पूरी नही होती हैं।।