I am reading on Matrubharti!

माना कि तुम्हे
DP, Status और Story में नही रख सकते ,

पर यकीन मानो तुम्हें जहाँ भी रखा है , बहुत महफूज़ रखा है ।

छोड़ दिया हमने किसी और के ख़यालो में रहेना,



हमने खुद से जो महोब्बत कर ली है ।

ये जो अधूरा इश्क़ कर रहे हो तुम ,



किसी को पूरा शायर बना रहे हो तुम ।

कितनी अजीब होती है इंसान की फितरत ,

शक्श खो जाए तो परवाह नही,

निशानियां हमेशा महफूज रखता है ।

शायरी शौक नहीं
है मेरा ,
और ना ही कारोबार है मेरा ,

बस जब दर्द बर्दाश्त नहीं कर पाता हूँ ,
तो लिख देता हूँ ।

વધુ વાંચો

हमारी और तुम्हारी मुस्कान में एक ही फर्क है ,

तुम खुश होकर मुस्कुराते हो और हम तुम्हे खुश देखकर ।

महफ़िल में चल रही थी हमारे कत्ल की तैयारी ,


जैसे हमको देखा तो बोले के बड़ी लम्बी उम्र है तुम्हारी ।

अहसास सच्चे हो वह काफी है ,



यकीन तो लोग सच पर भी नही करते ।

खामोश रहकर खरीद ली दूरियां हमने ,


लफ़्ज खर्च करना हमने जरूरी नही समझा ।