Hey, I am reading on Matrubharti!

हिसाब अपनी मोहब्बत का मैं क्या दूँ,

तुम अपनी हिचकियो को बस गिनते रहना।

वो जो दो पल थे तुम्हारी और मेरी मुस्कान के बीच,

बस वहीँ कहीं इश्क़ ने जगह बना ली।

વધુ વાંચો